बी.सा.पु.सं. में आपका स्वागत है

प्रोफेसर बीरबल साहनी, एफआरएस ने वर्ष 1946 में संस्थान की स्थापना की और अपने आप में एक विज्ञान के रूप में पैलियोबोटनी का विकास करने और पौधों के जीवन की उत्पत्ति और विकास के मुद्दों को सुलझाने में अपनी क्षमता की कल्पना करते हुए जीवाश्म ईंधन की खोज सहित अन्य भूवैज्ञानिक मुद्दों की कल्पना की। मूल रूप से जीवाश्म और संबंधित अध्ययनों के आधार पर, BSIP के जनादेश का हाल ही में विस्तार इसे अन्य क्षेत्रों के साथ संयोजन के रूप में किया गया था, और इस अंत को प्राप्त करने के लिए आधुनिक सुविधाओं का निर्माण किया गया था। बीएसआईपी एक समर्पित वैज्ञानिक टीम के माध्यम से अनुसंधान और विकास में उत्कृष्टता और एकीकृत अनुसंधान में एकीकृत नवीन विचारों के साथ उत्कृष्टता प्राप्त करने का प्रयास कर रहा है। अपने व्यापक अर्थों में, बीएसआईपी समय के माध्यम से पौधे के जीवन विकास और भूवैज्ञानिक प्रक्रियाओं, और पर्यावरणीय विकास की व्याख्या करना चाहता है। प्रारंभ में, बीएसआईपी ने भारतीय जीवाश्म फ्लोरा के अधिक बुनियादी पहलुओं पर जोर दिया, लेकिन नियत समय में विविधीकरण में बायोस्ट्रेटिग्राफिक डेटिंग, सतह और उपसतह तलछट का सहसंबंध, और जीवाश्म ईंधन के भंडार के लिए अनुकूल क्षेत्रों की खोज शामिल है। मुख्य शोध कार्य में भूवैज्ञानिक समय के माध्यम से पौधे के विकास की समझ शामिल है।

संस्थापक
प्रो. बीरबल साहनी
संस्थापक बी.सा.पु.सं.
प्रोफाइल देखिये
निदेशक
डॅा. वंदना प्रसाद
निदेशक
प्रोफाइल देखिये
अनुसंधान के प्रमुख बिंदु

Su T, Spicer RA, Wu F-X, …. Srivastava G et al. 2020. A Middle Eocene lowland humid subtropical “Shangri-La” ecosystem in central Tibet. Proceedings of the National Academy of Sciences. https://doi.org/10.1073/pnas.2012647117

Bhatia H, Srivastava G, Spicer RA et al. 2021. Leaf physiognomy records the Miocene intensification of the South Asia Monsoon. Global and Planetary Change 196: 103365. https://doi.org/10.1016/j.gloplacha.2020.103365

Joshi P, Phartiyal B, Joshi M. 2020. Hydro-climatic variability during last five thousand years and its impact on human colonization and cultural transition in Ladakh sector, India. Quaternary International. https://doi.org/10.1016/j.quaint.2020.09.053

Phartiyal B, Kapur VV, Nag N, Sharma A. 2020. Spatio-temporal climatic variations during the last five millennia in Ladakh Himalaya (India) and its links to archaeological finding(s) (including coprolites) in a palaeoecological and palaeoenvironmental context: A reappraisal. Quaternary International. https://doi.org/10.1016/j.quaint.2020.11.025

Phartiyal B, Singh R, Nag D et al. 2021. Reconstructing climate variability during the last four millennia from trans-Himalaya (Ladakh-Karakoram, India) using multiple proxies. Palaeogeography, Palaeoclimatology, Palaeoecology.

Babushkina EA, Zhirnova DF, Belokopytova LV, Mehrotra N, Shah SK, Keler VV, Vaganov EA. 2021. Prospects of Using Tree-Ring Earlywood and Latewood Width for Reconstruction of Crops Yield on Example of South Siberia. Forests 12: 174

Tripathi D, Kotlia BS, Tiwari M, Pokharia AK, Agrawal S, Kumar P, Long T, Paulramasamy M, Thakur B, Pal J, Mahar KS, Chauhan DK. 2020. New evidence of mid- to late- Holocene vegetation and climate change from a Neolithic settlement in western fringe of Central Ganga Plain: Implications for Neolithic to Historic phases. The Holocene

Ali S., Phartiyal B., Taloor A., Arif M., Singh B.P. 2021. Provenance, weathering and paleoclimatic records of the Pliocene-Pleistocene sequences of the Himalayan foreland basin, NW Himalaya. Arabian Journal of Geosciences 14:198

Yadava AK, Misra KG, Singh V, Misra S, Sharma YK, Kotlia BS, 2021. 244-year long tree-ring based drought records from Uttarakhand, western Himalaya, India, Quaternary International